Wednesday, January 26, 2022
Homeउत्तराखंडCDS रावत समेत दुर्घटना में मारे सभी लोगों की दुखद मौत...

CDS रावत समेत दुर्घटना में मारे सभी लोगों की दुखद मौत पर ,कर्नल कोठियाल ने प्रकट की संवेदना, कहा देश ने नायब हीरा खो दिया

देहरादून: आम आदमी पार्टी के सीएम प्रत्याशी कर्नल आज कोठियाल ने आज तमिलनाडु में हुई विमान दुर्घटना में हमारे देवभूमि उत्तराखंड की शान CDS बिपिन रावत जी, उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 13 लोगों की मौत की खबर पर अपनी संवेदना प्रकट की। उन्होंने कहा देश ने आज एक बहादुर और नायब हीरा खो दिया। उन्होंने इस दुख की घड़ी में शोक व्यक्त करते हुए कहा,सभी शहीद परिजनों को भगवान इस दुख की घड़ी में इस दुख को सहन करने की शक्ति दे ।

उन्होंने भावुक होते हुए कहा,CDS बिपिन रावत जी हम सबके साथ ही पूरे देश के लिए प्रेरणास्रोत थे। उनके साथ मेरा और मेरे परिवार का पारिवारिक रिश्ता था। वो हमेशा से मेरे मेंटोर रहे और रहेंगे। मैने उनसे बहुत कुछ सीखा। मेरा सौभाग्य रहा की उनके साथ मुझे काम करने का मौका मिला।उन्होंने बताया बिपिन रावत जी के पिताजी ने गोरखा रेजिमेंट में सिपाही के पद से लेकर लेफ्टिनेंट जनरल के पदों में रहकर देश सेवा की जिससे प्रेरणा लेकर विपिन रावत भी सेना के सर्वोच्च पद पर रहने के बाद सीडीएस जैसे अहम पद पर पहुंचे । कर्नल कोठियाल ने कहा,उन्होंने फौज में रहते हुए जो भी मिशन लिए उनको बखूबी अंजाम दिया और उनकी कार्यशैली के सभी मुरीद थे।

कर्नल कोठियाल ने बताया हिम्मत और जज्बा उनके अंदर बचपन से ही था। जब 1978 में आईएमए से पास आउट हुए तो sword of ऑनर लेने के बाद उन्होंने भी अपने पिताजी की तरह 11 गोरखा रेजिमेंट को चुना। अहम पदों पर रहते हुए और कई सफल मिशन को लीड करते हुए उन्होंने भारतीय सेना में अपनी वीरता से मिशाल पेश की। भारत के अलावा ब्रिगेडियर रहते हुए उन्होंने UN के शांति मिशन को भी कमांड किया, इसके बाद ब्रिगेडियर रहते हुए ही उन्होंने उरी में आतंकवाद के खिलाफ एक बड़े सफल अभियान को अंजाम दिया।
इसके बाद उन्होंने मेजर जनरल रहते हुए बारामुला में भी आतंकियों के खात्मे के लिए एक बड़ा अभियान चलाते हुए Corps commander रहने के दौरान नार्थ ईस्ट इंडिया में चीन के खिलाफ एक सफलतापूर्वक अभियान चलाया।

उन्होंने बताया बिपिन रावत पहले ऐसे सैन्य अधिकारी रहे जो 3 साल तक आर्मी चीफ रहे जबकि आर्मी चीफ का कार्यकाल तकरीबन दो साल का होता है इसके अलावा बड़ी सफलता तब मिली जब वो देश के पहले सीडीएस बने और देश के साथ साथ उत्तराखंड का नाम भी रोशन भी किया।

उन्होंने अपनी यादों को साझा करते हुए कहा,मैं जब मेजर के पद पर था उस दौरान मेरी पहली मुलाकात बिपिन रावत जी से हुई थी।इसके बाद जब मैं दिल्ली में 4th गढ़वाल राइफल्स को कमांड कर रहा था तब उस दौरान मेरे द्वारा एक पहाड़ी पार्टी का आयोजन किया गया, जिसमें बिपिन रावत जी, अजित डोभाल जी, राजेन्द्र सिंह, अनिल धस्माना समेत उत्तराखंड के बड़े सैन्य अधिकारी मौजूद रहे। उन्होंने कहा बिपिन रावत जी मेरे मेंटोर भी थे।

इसके अलावा उन्होंने कहा,जब म्यांमार में इंटरनेशनल प्रोजेक्ट के दौरान हमारा किडनैप हुआ था, तब सीडीएस विपिन रावत ने ही मध्यस्थता करते हुए हमें दुश्मनों के चंगुल से बाहर निकलने में मदद करी थी और उसके बाद उन्होंने भारत की सैन्य सुरक्षा हमें उपलब्ध कराई थी जिस वजह से हमारा प्रोजेक्ट पूरा हुआ था।

इसके अलावा उन्होंने कहा,मेरे आग्रह पर 2019 में वो अपनी पत्नी के साथ गंगोत्री आये और जहां पर उन्होंने स्वामी सुंदरानंद आश्रम में लगभग 5 घण्टे व्यतीत किये और उत्तराखंड से जुड़े कई मुद्दों पर हमारी बातचीत भी हुई।

News Trendz आप सभी से अपील करता है कि कोरोना का टीका (Corona Vaccine) ज़रूर लगवाये, साथ ही कोविड नियमों का पालन अवश्य करे। 

यह भी पढ़े: CDS जनरल बिपिन रावत के आकस्मिक निधन पर मुख्यमंत्री ने शोक व्यक्त किया

Download Android App

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Most Popular