Wednesday, January 26, 2022
Homeपॉलिटिक्सउत्तराखंड में 21 सालों में बीजेपी कांग्रेस ने किया अपना विकास,जनता को...

उत्तराखंड में 21 सालों में बीजेपी कांग्रेस ने किया अपना विकास,जनता को मूल सुविधाओं का अभी भी इंतजार: आतिशी

देहरादून: दिल्ली में कालका जी से आप की विधायक और डायनामिक आप नेत्री आतिशी,कल हल्द्वानी काशीपुर के दौरे के बाद आज देहरादून पहुंची। देहरादून में आज सुबह उन्होंने राजपुर विधानसभा में उन्होंने महिला संवाद कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

आप प्रदेश कार्यालय में पत्रकार वार्ता को किया संबोधित

रायपुर विधानसभा में आप नेत्री आतिशी ने मातृशक्ति संवाद कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद वो सीधे आप प्रदेश कार्यालय आराघर पहुंची जहां उन्होंने पत्रकार वार्ता को संबोधित किया।उन्होंने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, मैं उत्तराखंड दौरे पर आई हूं और इस दौरे के दौरान कई सच्चाईयां मेरे सामने आई हैं। 21 साल पहले बने इस राज्य के निर्माण में मातृशक्ति ने अपना बहुत बडा योगदान दिया था। उन्होंने कहा कि इस देवभूमि की मातृशक्ति ने इस प्रदेश के निर्माण की खातिर अपने प्राणों की आहूति तक दे दी। उन्होंने उत्तराखंड आंदोलन में शहीद हुए, हंसा धनई और बेलमति चौहान का नाम लेते हुए उन वीरांगनाओं को याद किया, जिन्होंने इस नए राज्य के निर्माण की खातिर अपने प्राणों की आहूति तक दे दी। उन्होंने कहा,यहां के युवा भी राज्य निर्माण आंदोलन में पीछे नहीं रहे । कई युवाओं ने अपना घरबार छोडकर अपनी नौकरियां छोडकर पृथक राज्य के लिए लडाई लडी। लेकिन आज यही महिलाएं ,यही युवा और अन्य लोग यहां राज कर चुकी सरकारों से जानना चाहते हैं ,कि 21 सालों बाद भी उन्हें इस प्रदेश में क्या मिला।

उन्होंने कहा कि, आज उत्तराखंड में रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य व्यवस्था के बुरे हाल हैं। सबसे ज्यादा दयनीय स्थिति महिला के स्वास्थ्य को लेकर है। बीते 21 सालों में इस प्रदेश में हर क्षेत्र में हालात बद से बदतर हुए हैं। उन्होंने आगे कहा कि, यहां के लोग बारी बारी से बीजेपी और कांग्रेस को वोट देते हैं ,ताकि वो पार्टी उनके लिए विकास कार्य कर सकें। बीते 21 सालों में 10 साल बीजेपी तो 10 साल कांग्रेस की सरकार इस राज्य में रही। पार्टियां बदली ,नेता बदले,लेकिन जनता की स्थिति, आज तक नहीं बदल पाई है। उन्होंने कहा कि ,उत्तराखंड के लोगों को 21 साल में अगर कुछ मिला तो सिर्फ 11 मुख्यमंत्री मिले। यहां पाॅलिसी नहीं बल्कि सीएम बदले गए । बीते 1 साल में इस प्रदेश ने तीन मुख्यमंत्री देख लिए हैं। लेकिन बदले में जनता को क्या मिला, सिर्फ टूट फूटे स्कूल।

काशीपुर दौरे में बदहाल स्कूल को लेकर मीडिया से जानकारी की साझा

उन्होंने मीडियाकर्मियों को काशीपुर का उदाहरण देकर बताया कि, कल अपने काशीपुर दौरे के दौरान भोगपुर के प्राथमिक विद्यालय को देखने का मौका मिला, तो आंखों में आंसू आ गए कि सरकारी स्कूल की ऐसी हालत थी कि, स्कूल में एक भी शीशा खिडकी में नहीं लगा था,बच्चों के बैठने के लिए कक्षाओं में कोई डैस्क की सुविधा नहीं थी। पीने के लिए पानी तक नहीं था। उन्होंने कहा कि जब उत्तराखंड के बच्चों को अच्छी शिक्षा नहीं मिलेगी, तो कैसे यहां के बच्चे आगे बढ पाएंगे।
उन्होंने कहा कि जो बच्चे पढ लिख जाते हैं उनके लिए राज्य में नौकरियां यहां की सरकारें दिला नहीं पाती तो मजबूरन उन युवाओं को पलायन करने को मजबूर होना पडता है। वही हाल महिलाओं के हैं , प्रसव के दौरान जच्चा बच्चा दोनों ही महफूस नहीं रह पाते ।उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के ही आंकडे इसकी तस्दीक करते हैं कि 1 लाख महिलाओं में से 100 महिलाओं की प्रसव के दौरान मृत्यु हो जाती है। ये है उत्तराखंड की हालत । आज उत्तराखंड को बने हुए 21 साल हो चुके हैं तो देश को आजाद हुए 75 साल पूरे हो चुके हैं। लेकिन आज हालात ये हैं कि, इस राज्य में एक महिला सुरक्षित तौर पर अपने बच्चे को जन्म नहीं दे सकती है ,और यह हम सबके लिए बहुत ही शर्म की बात है।

पिछले 21 सालों में अगर किसी मॉडल का विकास हुआ तो नेताओं के विकास के मॉडल का

 

उन्होंने आगे का कि राज्य बनने पर अगर किसी को कुछ मिला है तो वो सिर्फ नेताओं को जनता को आजतक कुछ हासिल नहीं हो पाया। उन्होंने कहा कि, यहां के नेताओं का काम सिर्फ दल बदल मात्र ही रह गया है। उन्होंने कहा कि 21 साल पहले जो नेता छोटी छोटी गाडियों में घूमते थे ,वो नेता आज बडी बडी गाडियों में घूमते हैं। आज सबकी बडी बडी कोठियां हैं। पहले सरकारी बैंकों में इनके खाते होते थे ,लेकिन आज सबके खाते स्विस बैंक में हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 20 सालों से कांग्रेस बीजेपी मिलीजुली सरकारें चला रहे हैं , क्योंकि जनता को ये लोग भनक नहीं लगने देते। उन्होंने हरक सिंह रावत और उमेश काउ पर निशाना साधते हुए कहा कि ,वो वापसी जनता के लिए नहीं बल्कि अपने टिकट ,अपने चुनाव और अपने पद के लिए चिंतित हैं। इन नेताओं को अगर जनता की चिंता होती, तो विधायक या मंत्री रहने के दौरान ये लोग जनता के विकास की बात सोचते । उन्होंने कहा कि प्रदेश में फिर से दल बदल का समय आ गया है। यहां के नेता अब एक नाव से दूसरी नाव में जाने की तैयारियों में लग गए हैं,क्योंकि इन दोनों दलों ने यहां राजनीति को गंदा कर दिया है। इन्हें सिर्फ सत्ता हथियाने से मतलब है। ऐसा ही कांग्रेस का हाल है ,जहां, सरेआम दो गुट आपस में मार पिटाई पर उतारु हो जाते हैं। ये वही नेता हैं ,जिन्होंने कभी विकास के लिए आवाज नहीं उठाई,प्रसव पीडा में दम तोडती महिलाओं के लिए कभी आवाज नहीं उठाई गई। बच्चों की अच्छी शिक्षा के लिए कभी नेताओं ने आवाज नहीं उठाई। लेकिन टिकट और अपने नेता को सीएम फेस घोषित करवाने को लेकर ये आपस में भिडने में देर नहीं करते।

हरक और काऊ पर निशाने के साथ,पूर्व सीएम हरीश रावत पर भी साधा निशाना

उन्होंने हरीश रावत पर निशाना साधा और कहा कि पहले हरीश रावत खुद को निराश बता रहे थे ,लेकिन अपने आलाकमान को मिलने के बाद कहते हैं कि अब वो सीएम फेस हैं। अब जनता को यह समझना होगा कि इन दोनों दलों के नेताओं का यही काम है कि अपनी जेब भरना और अपना विकास करना साथ में अपना राजनैतिक स्वार्थ सिद्ध करना ।उन्होंने कहा, जनता के विकास से ये दोनों दल कोई सरोकार नहीं रखते । उन्होंने आगे कहा कि, अब जनता ने ऐसी राजनीति के अंत का मन बना लिया है।जनता को अब बदलाव चाहिए,अच्छी शिक्षा,स्वास्थय सेवाएं,और रोजगार चाहिए। अब प्रदेश की जनता आप पार्टी की ओर आकृषित हो रही है। जनता अबकी बार आप पार्टी को मौका देना चाहती है ,क्योंकि आप पार्टी के नेता उत्तराखंड को तोडने की नहीं, बल्कि उत्तराखंड के विकास की बात करते हैं। आप के नेता उत्तराखंड के लोगों को गारंटी देते हैं ,और उत्तराखंड के विकास को कैसे आगे बढाएंगे उसकी बात करते हैं।

यह भी पढ़े: CM पुष्कर सिंह धामी ने किया ‘‘रैबार एक नये उत्तराखण्ड का’’ कार्यक्रम को सम्बोधित

Download Android App

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Most Popular