Friday, May 20, 2022
spot_imgspot_img
spot_imgspot_img
Homeस्पोर्ट्सउत्तराखंड के गोल्डन ब्वॉय निशानेबाज जसपाल राणा को मिलेगा द्रोणाचार्य पुरस्कार

उत्तराखंड के गोल्डन ब्वॉय निशानेबाज जसपाल राणा को मिलेगा द्रोणाचार्य पुरस्कार

देहरादून: देश के मशहूर निशानेबाज मूल रूप से उत्तराखंड रहने वाले जूनियर भारतीय पिस्टल टीम के मुख्य कोच जसपाल राणा को इस साल का द्रोणाचार्य अवॉर्ड से नवाजा जाएगा। जसपाल राणा को बीते वर्ष अवॉर्ड नहीं दिए जाने को ले कर काफी विवाद हुआ था और यही नहीं मामला अदालत तक पहुंचा था। पिछले साल अनदेखी के बाद हुए विवाद के बाद आखिरकार खेल मंत्रालय द्वारा गठित चयन समिति ने जसपाल राणा के नाम की अनुशंसा इस साल के द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए की है।

https://newstrendz.co.in/uk/uttarakhand-kotdwar-corona-in-4-people/

जूनियर भारतीय पिस्टल टीम के मुख्य कोच जसपाल राणा देहरादून के रहने वाले हैं। जसपाल राणा ने वर्ष 1995 के कॉमनवेल्थ गेम्स की शूटिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतकर देश का नाम रोशन किया था। उस वक्त देश को गोल्ड मेडल दिलाने वाले जसपाल राणा गोल्डन ब्वॉय के रूप में घर-घर में पहचाने जाने लगे थे।

जसपाल राणा को शूटिंग का हुनर उनको विरासत में मिला है। उनके पिता नारायण सिंह राणा भी अपने समय के जाने-माने निशानेबाज रहे हैं। बिटिया देवांशी राणा भी राष्ट्रीय स्तर पर निशानेबाजी में कई पदक जीत चुकी है। एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता जसपाल राणा ने मनु भाकर, सौरभ चौधरी और अनीश भानवाला जैसे विश्वस्तरीय निशानेबाज तैयार किए हैं। जसपाल राणा मूलरूप से टिहरी गढ़वाल के रहने वाले हैं। उनका जन्म 28 जून 1976 को उनके मूल गांव चिलामू, टिहरी गढ़वाल में हुआ। देश को निशानेबाजी मे स्थापित करने का श्रेय जसपाल राणा को ही जाता है।

जसपाल राणा की उपलब्धियों की बात करें तो शब्द कम पड़ जाएंगे। उन्होंने वर्ष 1995 में इटली के मिलान शहर में आयोजित हुए कॉमनवेल्थ गेम्स की शूटिंग स्पर्धा में आठ गोल्ड जीतकर नया रिकॉर्ड बनाया था। उस समय भारत के किसी भी निशानेबाज का यह सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था। साल 1994 में उन्हें अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्हें यश भारती पुरस्कार, राजधानी रत्न पुरस्कार, इंदिरा गांधी प्रियदर्शिनी पुरस्कार समेत कई सम्मानों से नवाजा गया। वो राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर कई अवॉर्ड जीत चुके हैं। जसपाल राणा इन दिनों देहरादून में युवा निशानेबाजों को तैयार कर रहे हैं। देहरादून के पौंधा क्षेत्र में उनकी जसपाल राणा शूटिंग एकेडमी है। जहां वो अपने पिता नारायण सिंह राणा के साथ मिलकर भविष्य के चैंपियन तैयार कर रहे हैं।

यह भी पढ़े:http://Breaking: Sushant Singh Rajput मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला सीबीआई करेगी जांच

Download Android App

RELATED ARTICLES

Most Popular